श्री धर्मेंद्र गुप्ता सोनभद्र के एक सुदूर गांव में रहते हैं जहां वह आटा चक्की और तेल पेरने का काम करते हैं। कुछ वर्षों पहले तक धर्मेंद्र को महीने डीजल पर एक मोटी रकम चुकानी पड़ती थी, चूकि वहां बिजली की उचित आपूर्ति नहीं थी और धर्मेंद्र अपने मासिक डीजल खर्च को भी कम करना चाहते थे तो उन्होंने इसके लिए कुछ उपाय करने की सोची, संयोगवश उनकी मुलाकात श्री जय सिंह -जोकि आन्या ग्रीन एनर्जी से थे, हुई । श्री जय सिंह ने धर्मेंद्र की आवश्यकताओं को समझा और सुझाव दिया कि उन्हें सौर ऊर्जा के लिए जाना चाहिए। चुंकी उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में स्थित धर्मेंद्र जी का घर औसतन 11 घंटे और 30 मिनट के प्रकाश के साथ सोलर एनर्जी सिस्टम की स्थापना के लिए एकदम सही होगा, उन्होंने आगे बताया कि सौर ऊर्जा अपनाकर आप अपने डीजल पर हो रहे भारी भरकम खर्च को बिल्कुल कम या खत्म कर सकते हैं सारी जानकारी ले लेने के बाद और पूरी तरह सोलर एनर्जी सिस्टम को समझने के बाद श्री धर्मेंद्र ने सोलर चक्की लगाने का निर्णय लिया। एक विस्तृत साइट निरीक्षण के बाद सोलर चक्की की पूरी रूपरेखा बनी।
सोलर आटा चक्की क्या है?
सोलर आटा चक्की में मुख्यतः सोलर पैनल और सोलर ड्राइव के अलावा कुछ और भी छोटे बड़े उपकरण लगते हैं, जहां- सोलर पैनल सूरज से मिल रही धूप को डीसी पावर में बदल देते हैं, सोलर ड्राइव डीसी पावर को 3 फेज एसी पावर में बदल देता है जिससे कि इलेक्ट्रिक मोटर चलती है और फिर बेल्ट के सहायता से चक्की और अन्य उपकरण चलने लगते हैं।
धर्मेंद्र जी 10 हॉर्स पावर की मोटर से अपना स्पेलर और आटा चक्की के साथ एक छोटी मसाला पीसने की यूनिट भी चलाते हैं वह रोज 7 से 8 घंटे तक अपना काम बड़े आराम से कर लेते है, और हमारे साथ ही बातचीत में उन्होंने कहा की सोलर चक्की लगाने के बाद उन्हें बहुत ही फायदा हुआ है चुकी सोलर चक्की एक बार लगाने के बाद कोई खर्च या मेंटेनेंस पर कोई खर्च नहीं है तो अब वह हर महीने लगभग 25 से 27 हजार रुपयों की बचत सिर्फ डीजल पर होने वाले खर्चे में से ही बचा लेते हैं इसके अलावा डीजल इंजन से होने वाले भारी शोरगुल और प्रदूषण से भी मुक्ति मिल गई है ।उन्होंने इन सबके लिए श्री जय सिंह को कोटि-कोटि धन्यवाद दीया और कहते हैं की “सभी लोग जो चक्की या स्पेलर का काम करते हैं उनको सोलर चक्की जरूर देखनी और समझनी चाहिए और हो सके तो लगानी चाहिए ताकि वह भी अपने लाखों रुपए हर साल बचा सकें”.